VIDEO: 3 घंटे तक लड़की के गले में लिपटा रहा यह सांप और फिर हुआ…

उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में एक ऐसा हैरान करने वाला वाक्या हुआ, जिसे देखने के बाद हर कोई बेहद हैरान है. यहां पर एक युवती के गले में सोते समय एक सांप लिपट गया. सांप लगभग तीन घंटे तक युवती के गले में लिपटा रहा. लेकिन जैसे ही ये सांप इस लड़की के गले से हटा, युवती बेहोश हो गई. करीब दो घंटे बाद होश में आने पर इस लड़की ने लोगों को जब सांप से जुड़ा पूरा वाक्या बताया तो लोगों के होश उड़ गए. आखिर क्यूँ ये सांप लिपटा रहा इस लड़की के गले में? वजह जानकर आप भी रह जायेंगे दंग.

There was such a shocking incident in the Kanpur district of UttarPradesh, after seeing everyone is very surprised. Here a snake is lying in the middle of a young woman’s sleep. The snake wrapped in the neck of the woman for nearly three hours. But as soon as the snake is removed from the throat of this girl, the woman becomes unconscious. After about two hours, when the person came to consciousness, when the girl told people the whole sentence related to snake, people’s senses got blown. Why is this snake wrapping this girl’s throat? Knowing the reason, you will also be stunned.

loading…

युवती के परिजन इसे बता रहे हैं दैवीय शक्ति. कानपुर के अरखैया थाना क्षेत्र में रहने वाले श्रवण कुमार खेती का काम करते हैं. उनके मुताबिक, बीते सोमवार दोपहर को उनकी बेटी खुशबू घर के बाहर बरामदे में चादर ओढ़कर सो रही थी. तभी, उसकी चाची रानी ने जैसे ही उसे जगाने के लिए चादर उठाया तो जो दिखा उसे देखकर दंग रह गई. उसने देखा की लड़की के गले में सांप लिपटा हुआ था और खुशबू अपने होशो-हवास में नहीं थी. खुशबू के गले में सांप देख चाची ने चिल्लाना शुरू कर दिया. देखते ही देखते वहां भीड़ जुटने लगी.

The mates of the young woman are telling it the divine power. Sharvan Kumar, a resident of Arkhaya police station area of ​​Kanpur, works as farmer. According to him, on Monday afternoon his daughter Khushbu was sleeping on the verandah outside the house. Only then, as soon as his aunt Rani picked up the sheet to wake her, she was stunned after seeing what she saw. He saw that the snake was wrapped in the neck of the girl and the fragrance was not in her senses. Aunt saw a snake in the throat of the fragrance and started shouting. Seeing them, the crowd started gathering.

भीड़ देख सांप ने भी अपना फन उठा लिया. इस अनोखे सीन को देख श्रवण और वहां आने वाले लोग सांप को भगवान शिव का रूप समझकर फूल चढ़ाने लगे. बेसुध खुशबू भी उसी अवस्था में वहां मौजूद लोगों को आशीर्वाद देने लगी. इस दौरान लोगों ने खुशबू से जो भी पूछा, उसने सबकी समस्याओं और उसका निवारण भी बताया. उसके पिता के मुताबिक, बेटी के गले में तीन घंटे तक सांप लिपटा रहा और उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचाया

The crowd watching snake lifted his fun. Audiences seeing this unique scene and those coming there thought that the snake was the form of Lord Shiva and started giving flowers. The unconscious fragrance also began to bless those present there. During this time, whatever the people asked for in fragrance, they also asked everyone about their problems and redressal. According to her father, the snake wrapped in the throat for three hours and did not harm her

जी हाँ सही पढ़ा आपने, पाकिस्तान में एक ऐसा गाँव बस्ता है जहाँ मंदिर में पूजा के समय मस्जिद में चल रही अज़ान की आवाज़ कम हो जाती है, वजह? जरूर बताएँगे लेकिन, आपको सबसे पहले बताते हैं पाकिस्तान के इस गाँव का नाम. इस गाँव का नाम है ” मीठी” जहाँ पाकिस्तान के बड़े से बड़ा आतंकी चाहे वो लश्कर, तालिबान या हाफिज सैईद ही क्यूँ न हो इस गाँव की तरफ आँख उठाने की भी नहीं सोच सकता. “मीठी” गाँव की ऐसी ही ख़ास बात से आपको रूबरू कराता ये Exclusive वीडियो

Yes, rightly you read, a village in Pakistan is Basta, where the Azan’s voice in the temple decreases in the temple at the time of worship, the reason? Of course, but you, first of all, tell you the name of this village of Pakistan. The village’s name is “sweet” wherever largest terrorist large Pakistan’s Lashkar, Taliban or Hafiz Said nor why not can not imagine the eye lifting side of the village. This unique video of “Sweet” gives you this unique video.

मीठी, जैसा इस गाँव का नाम है वैसी ही यहाँ के लोगों में मिठास. इस गाँव के हिन्दू और मुसलमानों की पीढ़ियों बहौत समय से साथ रह रही हैं. इस गाँव में लगभग 80 फीसदी जनसँख्या हिन्दुओं की है जबकि बाकि 20 फीसदी मुस्लिम आबादी यहाँ बस्ती है. लश्कर, तालिबान या हाफिज सैईद जैसे आतंकि इस गाँव की तरफ आँख उठाकर भी नहीं देख पाते. इस गाँव में कोई भी मुस्लिम गौमांस नहीं खाता. यही नहीं दिवाली के मौके पर मुसलमानों के घर भी दिए से रोशन होते है और हिन्दू मुस्लिम दोनों साथ में ख़ुशी ख़ुशी आतिशबाजी करते है. आतिशबाज़ी भी फुलझड़ी और अनार की होती है बम और गोलियों की नहीं.

Sweet, just as the name of this village is the sweetness in the people here. The generations of Hindus and Muslims of this village are living together for a long time. In this village, 80 percent of the population belongs to Hindus whereas 20 percent of the Muslim population is settled here. Even like Lashkar, Taliban or Hafiz Saeed, they can not even lift their eyes towards this village. There is no Muslim cow in this village. That is not Diwali chances are Muslim house lighted on and merrily merrily fireworks Hindu Muslim together. Fireworks are also sparkling and pomegranates, not bombs and bullets.

यह विडियो जरुर देखे

source:political report

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *